Thursday, 6 February 2014

सोच में डूबी रोशनाई





हे लफ्ज़ परेशां
सोच में डूबी हैं रोशनाई
लिखने को
कागज़ कलम कहाँ ,
दिल के जज्बात
बिखर रहे
समेटू उन्हें कैसे
वो अहसासों की
किताब कहाँ,
अश्क से
भीगी हैं पलके
लगी सावन की झड़ी
उसमे मेरे सपने
बह गये कहाँ,
थाम लो अब तो
हाथ मेरा
तन्हा जीवन
गुजरेगा कैसे
मैं हूँ यहाँ
तुम हो कहाँ |

जीतेन्द्र सिंह "नील"
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...