Saturday, 16 March 2013

साँसों की सरगम





साँसों की सरगम



खनकती चूड़ियों की खन खन
जैसे तेरी साँसों की सरगम
मतवाला हो गया मेरा मन
सुनकर इनकी खन खन

छनकती पायलो की छन छन
जैसे झूमे नाचे धरती गगन
जिया मेरा भी हो गया मगन
सुनकर इनकी सुरीली छन छन

मनमोहक हैं तुम्हारे नयन
देख इनको जीना गये भूल
ये दिखाते हैं जीवन दर्पण
इन्ही से रोशन मेरा जीवन

जादुई हैं तुम्हारे कर-कमल
इनका स्पर्श हैं अमृत समान
स्पंदित करते सदा मुझमे प्राण
मुझको हैं इनपर अभिमान

करो  तुम प्यार से मेरा आलिंगन 
तुम्हारी दुरी अब नहीं होती सहन 
निष्प्राण ना हो जाए मेरा जीवन
तुम बन जाओ "नील" की धड़कन

"नील"
Post a Comment
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...